आज संसद में पेश हो सकता है अविश्वास प्रस्ताव, मोदी सरकार की सबसे बड़ी अग्नि परीक्षा

देश दुनिया होम

नई दिल्ली आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर संसद में आज फिर हंगामा की उम्मीद है। प्रस्ताव को लेकर कुछ पार्टियों को छोड़कर लगभग पूरा विपक्ष अब एकजुट नजर आ रहा है। PM नरेंद्र मोदी की सरकार के खिलाफ विपक्ष आज पहला अविश्वास प्रस्ताव लेकर आ रही है पीडीपी की घोर विरोध आधा की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ इस अविश्वास प्रस्ताव का ऐलान किया है इस बात पर बात करते हुए टीडीपी के सांसद रवींद्र बाबू ने कहा है” अविश्वास प्रस्ताव लाने की वजह जाएगी हमारे बीच हुआ विश्वास भजपा के ऊपर ऊपर सेखत्म हो गया है”

वही मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव को लेफ्ट और कांग्रेस ने भी समर्थन देने का ऐलान कर दिया है सीपीएम के महासचिव सीताराम ने इस पर कहा” हम अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेंगे मोदी सरकार ने आंध्र प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया है bjp ने आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा पूरा नहीं किया हैदराबाद के तेलंगाना में जाने की वजह से जो आर्थिक क्षति हुई है उसकी भरपाई होनी चाहिए विशेष राज्य का दर्जा मिलना चाहिए था।”

वहीं कांग्रेस नेता अश्वनी कुमार का कहना है कि उनकी पार्टी अविश्वास प्रस्ताव के साथ है उन्होंने आगे कहा है कि विपक्ष इस पर एकजुट है अश्वनी कहता है कि उन्हें तो पहले से ही सरकार पर विश्वास है वही उन्होंने जानकारी दी है के इस प्रस्ताव के लाने के लिए उनकी पाठ में जरूरी 54 वोट जुटा लिया है।

सरकार से अलग हुई थी TDP के पास 16 सांसद है अविश्वास प्रस्ताव लाने वाली एक और पार्टी वाईएसआर के पास 9 सांसद है 34 सांसदों वाली बंगाल की CM ममता बनर्जी TMC मैं इस प्रस्ताव का समर्थन किया है यानी अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए जरूरी 54702 का समर्थन मिल गया है और अगर कांग्रेस साथ आती है तो इस प्रस्ताव को और ज्यादा बल मिलेगा विपक्ष तो बीजेपी सरकार के खिलाफ गोलबंदी में जुट रही है एक खबर यह भी है कि सहयोगी शिवसेना ने भी अविश्वास प्रस्ताव पर तथास्तु रहने का ऐलान कर दिया है।