जापान ने फीफा वर्ल्ड कप में रचा इतिहास, कोलंबिया को 2-1 से हराया

खेल कूद

फीफा वर्ल्ड कप मैच में जापान ने रचा इतिहास, कोलंबिया को हार का सामना करना पड़ा

जापान के यूया ओसाको के गोल की मदद से जापान ने फीफा विश्व कप में कोलंबिया को 2-1 से करारी शिकस्त दी। टूर्नामेंट में किसी दक्षिण अमेरिकी टीम को हराने वाली जापान पहली एशियाई टीम बन गई है। ओसाको 72 मिनट में गोल दागकर अपनी टीम को जीत दिलाई। इस जीत के साथ ही जापान ने 2014 में हुए विश्व कप में कोलंबिया के हाथ ग्रुप चरण में 4-1 से मिली हार कभी बदला चुका लिया।

मैच के दौरान कोलंबिया 386 मिनट तक 10 खिलाड़ियों की साथ ही मैच खेलती रही। आज से 4 साल पहले तक जापानी टीम एक भी मैच जीतने नहीं सकी थी। इस बार के फीफा वर्ल्ड कप में जापान की टीम की शुरुआत बेहतरीन रही जबकि मुख्य कोच अकीरा निशिनो नए कोच का कार्यकाल अप्रैल में ही शुरू किया है। ग्रुप h के इस मुकाबले में आक्रामक शुरुआत देखने को मिला। कोलंबिया के डिफरेंट कार्लोस कोई इस विश्व कप का पहला लाल कार्ड चौथे मिनट में मिला। जापानी टीम की तरफ से कागावा ने छोटे मिनट में गोल दागकर अपनी टीम को 1-0 से बढ़त दिलाई। मनी कोलंबियन टीम के तरफ से जुआन ने हाफ टाइम से ठीक पहले एक गोल दागकर टीम को बराबरी पर ला दिया। हाफ टाइम तक दोनों का स्कोर बराबर था। पिछला विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने वाले जेम्स ने आखिरी आधे घंटे खेल कर भी कोई गोल नहीं दागा।

आखरी में मिनट में जापान की तरफ से ओसांको नए गोल दागकर जापान को जीत के करीब पहुंचा दिया। जैसे ही उन्होंने गोल दागा तो मैदान में मौजूद कोलंबियन समर्थक दर्शकों को जैसे सांप सूंघ गया। और इस गोल के साथ ही जापानी टीम ने फीफा वर्ल्ड कप मैं इतिहास रचते कोलंबियन टीम के ऊपर जीत हासिल की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *