झारखंड के खूंटी जिला में मानव तस्करी के खिलाफ जागरुकता फैला रही पांच युवती के साथ गैंगरेप

देश दुनिया

झारखंड के खूंटी जिले के कोचांग गांव का मामला गांव के मिशन स्कूल में मानव तस्करी के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए नुक्कड़ नाटक करने आए 5 लड़कियों के साथ गैंगरेप

झारखंड के आदिवासी बहुलक खूंटी जिले में 5 आदिवासी युवतियों के साथ सामूहिक बलात्कार का मामला सामने आया है। एक गैर सरकारी संस्था से जुड़ी एक टीम मानव तस्करी के खिलाफ नुक्कड़ नाटक करने खूंटी के सुदूर गांव कोचांग गई थी। इस बीच टीम की पांच नदियों का गोवा कर इनके साथ दुष्कर्म किया गया।

यह घटना 19 जून की बताई जाती है। दक्षिणी छोटानागपुर के डीआईजी एबी होमकर ने बताया है कि पुलिस ने मामला दर्ज कर तफ्तीश शुरू कर दी है।

तस्करों से बच्ची को बचाने के लिए नुक्कड़ नाटक कर जागरूकता फैलाने वाले 5 युवतियों के साथ हुए गैंगरेप मामले में खूंटी और अड़की थाने में पुलिस ने दो प्राथमिकी दर्ज की है। खूंटी जिले के औराई प्रखंड के क्वेश्चन क्षेत्र में 5 युवतियों के साथ गैंगरेप की वारदात को मंगलवार को दिनदहाड़े अंजाम दिया गया था। घटना के 3 दिन बाद बीत जाने के पुलिस अब तक दुष्कर्मियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। अभी तक रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी की तस्वीर एक जारी की गई है। वहीं पुलिस ने उनकी थाने में दर्ज प्राथमिकी मेरे को चांद के फादर अल्फांसो साइंस पर घटना की सूचना पुलिस को नहीं देने घटना को रोकने और पीड़िताओं को बचाने का प्रयास नहीं करने के आरोप लगाए हैं। इनके अलावा 5-6 अज्ञात लोगों को भी आरोपी बनाया गया है। खूंटी जिले के डीसी सूरज कुमार और SP अश्वनी कुमार सिन्हा ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अपराधियों की सूचना देने वाले को ₹50000 का इनाम दिया जाएगा। पुलिस ने एक आरोपी की तस्वीर भी जारी की है पुलिस ने पीड़िताओं का न्यायालय में बयान भी दर्ज करा दिया है। सभी पीड़िताओं को पुलिस ने अपनी निगरानी में रखा है।

पुलिस अधिकारी के मुताबिक पीड़िताओं के बयान के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है तथा युवती की मेडिकल जांच भी कराई गई है। खूंटी के पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में तफ्तीश के लिए 3 विशेष टीम की गठित की गई है खुद डीजी भी खूंटी पहुंचे हैं। पुलिस के मुताबिक खूंटी में कार्यरत एक स्वयंसेवी संस्था आशाकिरण की टीम 19 जून को खूंटी जिले के अड़की थाना क्षेत्र के कोचांग गांव गई थी। गौरतलब है कि आशा किरण संस्थान में मानव तस्करी से बचाया छुड़ाई गई लड़कियों के अलावा पलायन से मजबूर लड़कियों को आश्रय दिया जाता है इस संस्थान की कई युवतियां इन विषयों पर गांव में जागरूकता के लिहाज से कार्यक्रम करती है।

इस टीम में 11 लोग थे। यह कोचांग गांव खूंटी जिला मुख्यालय से करीब 45 किलोमीटर दूर है। कोचांग में इस टीम ने नुक्कड़ नाटक किया इसके बाद सभी लोग स्थानीय स्कूल मिशन स्कूल में चले गए। उसके बाद इस दौरान कुछ असामाजिक तत्व मोटर साइकिल से स्कूल परिसर में पहुंचे और बंदूक की नोक पर पांच आदिवासी युवती को अगवा कर अपने साथ जंगल में ले गए और वहां पर अपराध को अंजाम दिया। इस बीच शुक्रवार सुबह पुलिस ने कोचांग गांव स्थित मिशन स्कूल के फादर और आशा किरण संस्थान की कई सिस्टर से भी पूछताछ की।

महिला आयोग ने बनाया तीन सदस्यीय जांच दल

राष्ट्रीय महिला आयोग ने झारखंड के खूंटी में हुए सामूहिक दुष्कर्म की घटना की जांच के लिए 3 सदस्यीय जांच दल का गठन किया है। महिला आयोग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि गैर सरकारी संगठन के साथ काम करने वाली 5 महिलाओं के साथ कथित तौर पर बंदूक के बल पर कम से कम 5 पुरुषों के एक समूह ने बलात्कार किया है। महिलाएं मानव तस्करी और विस्थापन के मुद्दे पर खूंटी जिले के कोचांग गांव में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य गई थी। अधिकारियों ने बताया कि 3 सदस्यीय जांच दल दुष्कर्म के मामले की जांच होती जाकर करेगी। आयोग ने झारखंड के पुलिस महानिदेशक डी के पांडे से मामले की कार्रवाई की जानकारी देने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *