दुनिया में मौजूद सबसे रहस्यमई अद्भुत और आश्चर्यजनक जगह

Uncategorized रहस्यमय तथ्य होम

हमारी दुनिया की बहुत सी जगह अभी भी अनछुई और अनजानी सी है ,अभी भी यहां इंसान के कदम नहीं पढ़े हैं, अगर यहां इंसान ने कदम रखा भी है, तो भी यह जगह अपने आप में रहस्य लिए हुए हैं।

दुनिया भर में ऐसे ही कुछ रहस्यमई जगह है जो अपने रहस्य को अभी तक बरकरार रखे हुए हैं। इन जगहों के रहस्य को समझाने के लिए वैज्ञानिक अभी भी काम कर रहे हैं। यह अद्भुत और आश्चर्यचकित कर देने वाली जगह जितनी ज्यादा अद्भुत है ,उतनी ही ज्यादा प्राकृतिक रूप से खूबसूरत भी है। आज हम आपको अपने इस लेख में ऐसे ही अद्भुत और आश्चर्यचकित कर देने वाली जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. मीर माइन, साइबेरिया

मीर माइन साइबेरिया रूस में स्थित है । यह कभी दुनिया के सबसे बड़ी हीरे की खदान हुआ करती थी। यहां से कभी एक करोड़ कैरट का हिरा हर साल निकाला जाता था। जब यहां से हीरा का भंडार समाप्त हो गया लोगों ने गौर किया, कि यह माइंस एकदम अलग और अद्भुत सी दिखने लगी है। अगर आप आसमान से इस माइंस का नजारा लेते हैं  आपको धरती की नाभि की तरह नजर आएगी।

इसे मानव निर्मित सबसे बड़ी कुआं भी कहा जाता है।

इसकी गहराई तकरीबन 1720 फीट और चौड़ाई 3900 फीट के करीब है, और यह दुनिया में सबसे बड़ी गड्ढा है। जिसे इंसानों द्वारा निर्मित किया गया है। यही कारण से मीर माइंस के ऊपर नो फ्लाई जोन बना दिया गया, क्योंकि कुछ हेलीकॉप्टर चलाने वाले पायलट ने यह शिकायत की थी कि जब वह मीर माइंस के ऊपर उड़ रहे थे तो कुछ अनजाने ताकतों ने उन्हें जमीन की तरफ खींचने की कोशिश की थी।

लेकिन ऐसा कुछ नहीं था ,अत्यधिक गड्ढा होने के कार यह हवाएं एक तरह का फ्लो बनाती है। जिससे वह उस गड्ढे के आस-पास उड़ने वाली वस्तुओं और चीजों को अपनी ओर खींचती है। मीर माइंस का गड्ढा इतना बड़ा है कि आप Google मैप पर इसे आसानी से खोज सकते हैं।

2. नाज़का ड्राइंग, पेरू

दक्षिणी पेरू के रेगिस्तानी इलाकों में अगर आप आसमान से धरती की तरफ देखेंगे तो आप को जमीन  में अनेक  चित्र बने हुए नजर आते हैं, और इस तरह की कई लकीरें आपको यहां देखने को मिल जाया करेंगे । इन्हें देख कर ऐसा लगता है कि जैसे किसी चित्रकार ने इन्हें रेगिस्तान पर चित्रकारी की हो। पहली बार जब इन लकीरों को पेरू के रेगिस्तान मैं देखा गया तो सारा दुनिया अर्साचकित हो गया था। 80 किलोमीटर से भी अधिक क्षेत्र में फैले भूभाग में सैकड़ों रेखा चित्रों का संग्रह है नज़का ड्राइंग। वैज्ञानिकों द्वारा इस के रहस्य को समझाने की कोशिश की जा रही है लेकिन फिर भी इसके पीछे का रहस्य को सुलझाने में नाकामयाब साबित हुए हैं।

3. डेथ वैली मूविंग स्टोन

डेथ वैली मूविंग स्टोन के नाम से जाने जाने वाली मूविंग स्टोन डेथ वैली आपको बहुत ही ज्यादा अर्श्चकित कर देने वाली जगह है। यहां बड़े-बड़े पत्थर अपने स्थान से खिसक कर कई मीटर दूर तक चले जाते हैं। क्या आपने कभी पत्थरों को अपने आप चलते हुए देखा है?। कैलिफ़ोर्निया की डेथ वैली में कुछ पत्थर अपने आप खिसक कर एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच जाते हैं। पत्थरों का इस तरह एक स्थान से दूसरे स्थान तक चले जाना नासा के लिए भी एक पहेली बना हुआ है। यह पत्थर अपने आप से खिसक कर आगे बढ़ते हैं। जिससे इनके चलने का निशान भी इनके पीछे बनता जाता है सबसे अद्भुत कर देने वाली हूं घटना तो यह है कि पत्थरों  का वजन 1 टन से भी ज्यादा है।

वैज्ञानिकों द्वारा यहां पर मौजूद कई पत्थरो के ऊपर शोध भी किए गए । कुछ वैज्ञानिकों द्वारा यहां पर मौजूद पत्थरों को नाम दे दिया गया। और इन की निगरानी की गई । एक साल तक तो इन पत्थरों में कोई हलचल नही देखी गयी, पर वैज्ञानिक द्वारा 7 साल बाद देखा गया कि इनमें से कुछ पत्थर 1-1 किलोमीटर दूरी तक खिसक चुके थे। विज्ञानिकों ने इसका कारण यहां की मौसम को वजह बताया दिन के समय तेजी से चलती हुई हवाएं और रात में यहां बर्फ जम जाती है, और नमी से भरी मिट्टी और तेज हवा के कारण पत्थर अपना स्थान बदलते रहते हैं।

लेकिन कई लोगों ने वैज्ञानिकों द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण को सही नहीं मानते और इसके पीछे एलियंस के हाथ होने की वजह मानते हैं।

4.चमकती बिजली का इलाका( लाइटनिंग स्ट्रोम वेनेजुएला)

वेनेज़ुएला के पश्चिमी तटीय क्षेत्र किनारे माराकैबो झील है। इस झील के ऊपर इतनी बिजली चमकती है, कि आप उसकी कल्पना भी नहीं कर सकते हैं । यहां पर प्रति वर्ग किलोमीटर में हर साल 250 बार बिजली चमकने का रिकॉर्ड है। यहां पर बिजली चमकने के साथ-साथ आसमान में बादलों के गरजने की ध्वनि भी सुनाई देती है । यहां पर जनवरी फरवरी के महीने में बिजली चमकने की संख्या कम हो जाती है ,लेकिन मई और अक्टूबर के महीने में बिजली चमकने की संख्या बहुत ही अधिक बढ़ जाती है । इन महीनों में यहां हर रात 200 से भी ज्यादा बार बिजली चमकती है । इस के ऊपर चमकने वाली बिजली में इतनी ज्यादा चमक होती है, कि यहाँ 400 किलोमीटर की दूर से भी दिखाई देती है । वैज्ञानिकों द्वारा की गई रिसर्च के अनुसार झील के पास तेल वाले इलाकों में मिथेन की मात्रा अधिक होने के कारण आसमान में ज्यादा बिजली चमकती है। लेकिन दुनिया में ऐसी और भी जगह है। जहां मीथेन की मात्रा जायद है ,लेकिन वह बिजली चमकने जैसी कोई घटना नहीं होती।

क्षेत्र में अत्यधिक बिजली चमकने की घटना के विज्ञानिक स्पष्टीकरण को कई लोग नकारते हैं और इसे भी किसी अद्भुत शक्ति से जोड़कर देखते हैं।

5. मैग्नेटिक हिल भारत

साइंस के कारण भले ही आज हम इस दुनिया में ऊंचाई को छू रहे हो। लेकिन आज भी इस दुनिया में कुछ ऐसे रहस्य है । जिन को खोजने में साइंस असमर्थ है। जम्मू कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में लेह के पास एक पहाड़ी है जिसे अपनी मैग्नेटिक फील्ड के कारण जाना जाता है । यह मैग्नेटिक हिल अपने आप में खास है। इस हिल के मैग्नेटिक प्रभाव के कारण बिना स्टार्ट किया ही हील की ओर गाड़ियां चलने लगती है।

विज्ञानिक इस मैग्नेटिक हिल के रहस्य के बारे में अभी अच्छी तरह से पता नहीं लगा पाए हैं ।वैज्ञानिकों का मानना है, कि इस चुंबकीय शक्ति है। जो cars और गाड़ियों को 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अपनी ओर खींचती है, ना केवल गाड़ियां बल्कि आसमान में उड़ने वाले जहाज भी इस इलाके के मैग्नेटिक फील्ड से बच नहीं पाते हैं। हवाई जहाज को हल्के मैग्नेटिक फील्ड से बचाने के लिए हवाई जहाज की रफ्तार बढ़ा दी जाती है।

10 श्रापित जगह जहां रात में जाना खतरे से खाली नहीं गलती से भी नहीं जाए!

राजस्थान के बाड़मेर जिले में स्थित है। किराडू का मंदिर जिसे राजस्थान का खजुराहो भी कहते हैं ।इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यह सपित है। एक साधु के श्राप के कारण याह लोग शाम ढलने के बाद नहीं ठहरते कहते हैं । रात को जो ठहरता है वह यहां तो पत्थर का बन जाता है, या उसकी मौत हो जाती है।

1. दार्जिलिंग का एक हिल स्टेशन कुर्सियांग

दार्जिलिंग का कुर्सियांग हिल स्टेशन खूबसूरती और और मनोहर दृश्य के लिए पूरे भारत में विख्यात है। अंग्रेजी में कर्स का मतलब होता है Shaapit, और कर्स Shaapit से ही इस जगह का नाम कुर्सियांग पड़ा है । यह बात यहां के डाउ हिल जाकर पता चलता है । जहां के बारे में कहा जाता है कि यहां के जंगल में एक सिर कटा व्यक्ति घूमता है। रात के समय डाउ हिल के जंगलों में जाना मौत को निमंत्रण देना कहा जाता है । दैउ के अलावा कुछ और भी स्थान है जो हॉन्टेड माने जाते हैं इसलिए जब कभी भी इस हिल स्टेशन पर घूमने जाए तो रात में कोई लापरवाही ना बरते हैं।

2. भानगढ़ का किला राजस्थान

राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है। भानगढ़ का किला इस किले को कुछ लोग भूत प्रेत से जोड़ करके और तांत्रिक द्वारा श्रपित माना जाता है । इसके पीछे का रहस्य भले ही कुछ भी हो लेकिन वर्षों से लोग इसे Shaapit ही मानते आ रहे हैं। भारत सरकार के पुरातात्विक विभाग ने इस किले में रात के समय प्रवेश वर्जित कर रखा है। यह किस कारण से है यह तो कहा नहीं जा सकता लेकिन कहते हैं कि यहां रात के समय जाना खतरे से खाली नहीं है।

4.कुलधरा गांव जैसलमेर

जैसलमेर से करीब 18 किलोमीटर की दूरी पर बसा है। एक ऐसा ही शापित गांव कुलधारा जो 1825 से वीरान पड़ा हुआ है । कहते हैं कि पानीवाला ब्राह्मणों ने इस गांव को श्राप दिया  ,कि यह कभी दुबारा बस नहीं पाएगा । तब से यह गांव वीरान पड़ा हुआ है। आसपास के इलाके में रहने वाले लोग बताते हैं कि रात में भूत प्रेतों की और अजीबोगरीब सी आवाज यहां आती है इसलिए इस गांव में रात के समय कोई नहीं जाता है।

5. असम की जटिंगा वैली

इस स्थान को लेकर के कई रहस्य बने हुए हैं और विज्ञानिकों द्वारा इसके पीछे के रहस्य के बारे में जानने के लिए आज भी रिसर्च किए जा रहे हैं । यह जगह अपने आप में रहस्य से भरी पड़ी हुई है ।यहां रात में कई पक्षियां आकर आत्महत्या करते हैं । यह आप को हर जगह पक्षियों के लाश देखने को मिल जाया करेंगे। यहां पर लोगों का प्रवेश वर्जित तो नहीं है ,लेकिन यहां रहने वाले हैं स्थानीय लोगों द्वारा मानना है, कि यहां किसी काले जादू और तंत्र मंत्र भूत प्रेत के कारण यहां हजारों पक्षियां आकर आत्महत्या करते हैं।

यहां पर आकर देश विदेश के कई वैज्ञानिकों द्वारा रिसर्च भी किए गए लेकिन आखिरकार पक्षियां यहां आकर ही आत्महत्या क्यों करती है इसके रहस्य के ऊपर से पर्दा नहीं उठ पाया है।

6. मथुरा का निधि वन

मथुरा का निधि वन के बारे में आज भी कहा जाता है, कि भगवान श्री कृष्ण और देवी राधा गोपियों संग रास रचाते हैं इसलिए शाम ढलते ही इस वन का दरवाजा बंद कर दिया जाता है पशु-पक्षी भी मन से चले जाते हैं मान्यता यह है कि जो भी इस वन में रात के समय रह जाता है उसकी मृत्यु हो जाती है यह अपना सुध-बुध खो देता है।

मथुरा का निधि वन को देखने के लिए दोपहर के समय या सुबह पर्यटकों के लिए खोल दिया जाता है लेकिन शाम ढलते-ढलते यहां लोगों का प्रवेश वर्जित कर दिया गया है।