प्रधानमंत्री योजना जिन्हें लागू किया गया है विस्तृत जानकारी

देश दुनिया

प्रधानमंत्री द्वारा कई ऐसी योजनाएं लागू की गई है जो आम जनता के लिए काफी फायदेमंद है। इनमें से कई योजनाएं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पिछले लगभग 4 साल में कई योजनाओं की शुरुआत की गई है जिनका लाभ सीधे भारत की जनता को मिल रहा है। हम यहां पर लाए हैं उन सभी सरकारी योजनाओं की सूची हिंदी में। और इन योजनाओं के बारे में आपको यहां पर विस्तृत जानकारियां मिल जाएगी।

प्रधानमंत्री आवास योजना, मुद्रा योजना, जनधन योजना, सुरक्षा बीमा योजना ,उज्ज्वला योजना ,अटल पेंशन योजना, स्टैंड अप इंडिया और प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना जैसे अनेक लोकप्रिय योजनाओं के माध्यम से नरेंद्र मोदी सरकार ने भारत के नागरिकों को कई तरह की सुविधा प्रदान की है। इस प्रकार के सभी 135 से भी ज्यादा नई सरकारी योजनाओं की सूची जो भी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जैकी सरकार ने अभी तक शुरू की है यह पुराना बंद योजनाओं को दोबारा से शुरू किया गया उनकी सूची नीचे दी गई है और उनके बारे में विस्तृत जानकारियां भी।

1.प्रधानमंत्री जनधन योजना

प्रधानमंत्री जनधन योजना भारत में वित्तीय समावेशन पर राष्ट्रीय मिशन है और जिसका उद्देश्य देश भर में सभी परिवार को बैंकिंग सुविधाएं मुहैया करवाना और हर परिवार को बैंक खाता खोलना है। इस योजना की घोषणा 15 अगस्त 2014 तथा इसका शुभारंभ 28 अगस्त 2014 को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था।

प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गई यह योजना गरीब लोगों को पैसा बचाने में सक्षम बनाती है। यहां रहने वाले लोगों को स्वतंत्र बनाना ही सही मायने में एक स्वतंत्र भारत बनाना है। भारत एक ऐसा देश है जो ग्रामीण क्षेत्रों में रहने लोगों की पिछड़ेपन ओ की स्थिति के कारण अभी भी एक विकासशील देशों में गिना जाता है। अनुचित शिक्षा असमानता, सामाजिक भेदभाव और बहुत सारी सामाजिक मुद्दों की वजह से भारत में गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों की दर बहुत ज्यादा है।

यह बहुत ज्यादा जरूरी है कि पैसे बचाने की आदत के बारे में लोगों के बीच जागरूकता बढ़े जिससे भविष्य में कुछ बेहतर करने के लिए वह स्वतंत्र हो सके। उनके भीतर कुछ विश्वास पड़े बचत की के पैसों की मदद से वह बुरे दिनों में बिना किसी के सहारे अपनी मदद कर सकते हैं। जब हर एक भारतीय लोगों के पास अपना बैंक खाता होगा तब वह पैसों की बचत के महत्व को ज्यादा अच्छे से समझ सकेंगी।

2. प्रधानमंत्री आवास योजना

प्रधानमंत्री आवास योजना भारत सरकार की एक योजना है जिसके माध्यम से नगरों में रहने वाले निर्धन लोगों को उनकी क्रय शक्ति के अनुकूल घर प्रदान किया जा सके।

सरकार ने 9 राज्यों के 305 नगरों एवं कस्बों को चिन्हित किया है जिनमें यह घर बनाए जाएंगे। प्रधानमंत्री आवास योजना केंद्र सरकार द्वारा संचालित योजना है इस योजना का शुभारंभ 25 जून 2015 को हुआ था। इस योजना का उद्देश्य 2022 तक सभी को घर उपलब्ध कराना है इसके लिए सरकार ने 2000000 घरों का निर्माण कराएगी। इसमें से लगभग 1800000 घर झुग्गी-झोपड़ियों वाले इलाकों में बाकी दो लाख शहरों के गरीब इलाकों में बनाया जाएगा।

3. प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना

बेटी की पढ़ाई व शादी के लिए पैसों की टेंशन दूर करने को अब आप डाक विभाग के पास” सुकन्या समृद्धि “योजना का खाता खुलवा सकते हैं। जनवरी PM नरेंद्र मोदी ने हरियाणा में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ चैंपियन में इस स्कीम की शुरुआत की थी। भारत में डाक विभाग के हर पोस्ट ऑफिस में यह सुविधा दी गई है।

यदि 2015 में कोई व्यक्ति ₹1000 महीने से अकाउंट खोलता है तो उसे 14 साल तक किया नहीं 2028 तक साल ₹12000 डालने होंगे। जिस पर हर साल 9.1% ब्याज मिलता रहेगा तो जब बच्ची 21 साल की हो जाएगी तो उसे 6,07,128 रुपए मिलेंगे। आपको यह बता दें कि 14 साल में व्यक्ति को मात्र 1.68 लाख रूपय ही जमा करने पड़ेंगे बाकी बचे 4,39,128 रुपए ब्याज के हैं।

4. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत मुद्रा ऋण देश के गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यापारियों के वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार का उपक्रम है। इसके पीछे का भाव यह है कि छोटे से व्यवसाय के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जो कि भारतीय कामकाजी आबादी में बहुमत को रोजगार प्रदान करता है।

केंद्र सरकार की मुद्रा योजना के दो उद्देश्य है पहला स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन देना दूसरा छोटे उद्योगों के जरिए रोजगार का सृजन करना है। अगर आप भी अपना कारोबार शुरू करने के लिए पूंजी की समस्या का सामना कर रहे हैं तो केंद्र सरकार की इस पहल से आप अपने सपनों को साकार कर सकते हैं। इसके पीछे सरकार की सोच यह है कि आसानी से लोन मिलने पर बड़े पैमाने पर लोग स्वरोजगार के लिए प्रेरित होंगे इससे बड़ी संख्या में रोजगार के मौके भी बनेंगे।

मुद्रा योजना से पहले तक छोटे व्यापारियों और उद्योगों के लिए बैंक से लोन लेने में काफी औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती थी। इस वजह से कई लोग उद्यम तो शुरू करना चाहते थे लेकिन बैंक से लोन लेने में कतराते थे। इस योजना के लिए बनाई गई वेबसाइट के मुताबिक 23 मार्च 2018 तक मुद्रा योजना के तहत 228141 करोड़ रुपए के लोन मंजूर किए जा चुके हैं।

मुद्रा योजना के अंतर्गत आपको तीन तरह के लोन दिए जाते हैं

  • शिशु लोन:- शिशु लोन के अंतर्गत ₹50000 तक के कर्ज दिए जाते हैं।
  • किशोर लोन:- किशोर लोन के अंतर्गत आपको 50000 से लेकर ₹500000 तक के कर्ज दिए जाते हैं।
  • तरुण लोन:- तरुण लोन के तहत 500000 से लेकर के 1000000 रुपए तक के लोन दिए जाते हैं।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत कोई निश्चित ब्याज दर नहीं है विभिन्न बैंक मुद्रा लोन के लिए अलग-अलग ब्याज दर वसूल ते हैं। लोन लेने वाले के कारोबार की प्रकृति और उससे जुड़े जोखिम के आधार पर ही ब्याज दर निर्भर करती है। आमतौर पर देखा जाए तो न्यूनतम ब्याज दर 12% है। मुद्रा योजना के तहत लोन लेने के लिए आपको सरकारी या बैंक की शाखा में आवेदन देना होगा। अगर आप खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपको मकान के मालिक आना है कि या किराए के दस्तावेज, काम से जुड़ी जानकारी, आधार, पैन नंबर सहित कई अन्य दस्तावेज जमा करने होंगे।

5. प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई महत्वाकांक्षी सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम शुरू किए हैं। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना भी इनमें से एक है। यह मूल रूप से एक सावधि जीवन बीमा पॉलिसी है। इसका सालाना आधार पर या लंबी अवधि के लिए नवीनीकरण किया जा सकता है। पॉलिसीधारक की मौत होने पर उसे जीवन बीमा कवरेज मुहैया करायेगी। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना 18 से 50 वर्ष आयु समूह के व्यक्तियों को उपलब्ध कराई जाती है। संबंधित व्यक्ति का बैंक खाता होना चाहिए। जो लोग या पॉलिसी 50 साल के पहले लेते हैं उन्हें जीवन बीमा का कबर 55 साल तक मिलेगा। हालांकि कन्हैयालाल पाने के लिए नियमित रूप से प्रीमियम का भुगतान करना होगा।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में रिस्क कवर रेट ₹200000 है। पॉलिसी 1 साल से ज्यादा अवधि के लिए ली गई तो जितने साल के लिए पॉलिसी दी गई है उसमें साल तक हर साल संबंधित बैंक खाते से पैसा काट लिया जाएगा।

6. प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का वार्षिक प्रीमियम मात्र ₹12 है। इस योजना का प्रीमियम इस योजना की खासियत बयां करता है। इस बीमा योजना के अंतर्गत ₹12 वार्षिक प्रीमियम पर दुर्घटना बीमा किया जाएगा। यह योजना 18 से 70 साल के लोगों के लिए है। यदि इस योजना के अंतर्गत बीमित व्यक्ति की दुर्घटना में मौत हो जाती है या फिर किसी हादसे में दोनों आंखें या दोनों हाथ या दोनों पैर खराब हो जाते हैं तो उसे ₹200000 मिलेंगे। इस योजना के संचालन का तरीका ठीक प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना की तरह ही है।

7. अटल पेंशन योजना

असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले और मजदूरों को जीवन भर की पेंशन प्रदान करने के लिए अटल पेंशन योजना की शुरुआत की गई थी। यदि आप इस योजना में शामिल होते हैं तो केंद्र सरकार आपको आपके पति या पत्नी को जीवन की न्यूनतम पेंशन की गारंटी देता है।

यदि आप अटल पेंशन योजना में निवेश करते हैं तो आपको 7 वर्ष की आयु से लेकर मृत्यु तक आपको ₹1000 प्रतिमाह से लेकर ₹5000 प्रतिमाह की पेंशन मिलेगी। पेंशन 1000 2000 3000 4000 या 5000 से बढ़ाकर अब इसे ₹10000 तक कर दिया गया है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि इस पेंशन पर सरकार ने ग्यारंटी दी है। तो कितनी पेंशन आपको मिलेगी ही। परंतु आपके योगदान पर आपको बेहतर रिटर्न मिलते हैं तो आपको ज्यादा पेंशन भी मिल सकती है। निवेशक की मृत्यु के बाद पति या पत्नी को भी या पेंशन मिलती रहेगी। इस योजना की न्यूनतम प्रवेश आयु 18 वर्ष है और अधिकतम प्रवेश आयु 40 वर्ष है।

8. सांसद आदर्श ग्राम योजना

इस योजना के अंतर्गत गांव के निर्माण और विकास हेतु कार्यक्रम है। जिसका मुख्य लक्ष्य ग्रामीण इलाकों में विकास करना है इस कार्यक्रम का शुभारंभ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जयप्रकाश नारायण के जन्म दिन 11 अक्टूबर 2014 को शुरू किया था।

9. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

किसानों के फसल के संबंध में अनिश्चितताओं को दूर करने के लिए नरेंद्र मोदी की कैबिनेट ने 13 जनवरी 2016 को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को मंजूरी दे दी।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों की फसल को प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुई हानि को किसानों के प्रीमियम का भुगतान देकर एक सीमा तक कम करती है। इस योजना के लिए 8800 करो रुपए खर्च किया जाएगा। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को बीमा कंपनी द्वारा निश्चित खरीब की फसल के लिए 2% प्रीमियम और रबी की फसल के लिए 1.5% प्रीमियम का भुगतान करना होगा। इस योजना के अंतर्गत प्राकृतिक आपदाओं के कारण खराब हुई फसल के खिलाफ किसानों द्वारा भुगतान की जाने वाली बीमा की किस्तों को बहुत नीचा रखा गया है। जिनका प्रत्येक अस्तर का किसान आसानी से भुगतान कर सकेगा। यह योजना केवल खरीफ और रबी की फसलों को बल्कि वाणिज्य और बागवानी फसलों के लिए सुरक्षा प्रदान करती है। वाणिज्य और बागवानी फसलों के लिए किसानों को 5% प्रीमियम का भुगतान करना होगा।

10. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

मानसून पर खेती की निर्भरता कम करने के उद्देश्य से सरकार ने हर खेत को पानी पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना स्वीकृत की है। इस योजना में तीन मंत्रालय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनरुद्धार मंत्रालय और कृषि मंत्रालय की विभिन्न जल संरक्षण संचयन एवं भूमि जल संवर्धन तथा जल वितरण संबंधी कार्यों को समेकित किया गया है।

इस योजना के लिए अगले 5 वर्षों के लिए 50000 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं तथा चालू वित्त वर्ष 2015 16 के लिए इस योजना में 5300 करो रुपए का आवंटन किया गया था। राज्य सरकारों द्वारा धनराशि के प्रयोग तथा उनकी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए वर्षवार उपयोग तथा कुल आवंटित धनराशि भी इस कार्यक्रम के लिए बढ़ाई जा सकती है जिससे कि हर खेत को पानी तथा प्रति भूल अधिक फसल उत्पादन के साथ-साथ पूरे देश की खाद सुरक्षा सुनिश्चित हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *