भारत के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन एक बार फिर सुर्खियों में है

देश दुनिया होम

भारत के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन एक बार फिर सुर्खियों में है और यह सोशल मीडिया पर ट्रेंड भी कर रहे हैं” रॉकस्टार” राजन

भारत के रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन एक बार फिर चर्चा का विषय बन गया है। और सोशल मीडिया साइट पर रघुराम राजन Rockstar के साथ इन्हें हैश टैग किया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि इन्होंने अपने शिकागो यूनिवर्सिटी के प्रतिष्ठित नौकरी छोड़ कर वह दोबारा भारत आ गया है।

दरअसल बात यह है कि ब्रिटेन के एक स्थानीय अखबार फाइनेंसियल टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक रघुराम राजन ब्रिटेन के बैंक ऑफ इंग्लैंड के नए गवर्नर की रेस में शामिल हो गए हैं। वर्तमान में मौजूदा गवर्नर चेयरमैन माइक करणी का कार्यालय 2019 में खत्म हो रहा है और ऐसे में बैंक ऑफ इंग्लैंड को एक नए गवर्नर की तलाश है।

ऐसे में अखबार ने 6 नामों का जिक्र किया है उनमें भारत के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के अलावा भारतीय मूल के श्रुति वाड्रा को भी शामिल किया गया है।लेकिन डॉक्टर रघुराम राजन ने इसके लिए कोई संकेत नहीं दिया है कि उन्हें यह नौकरी चाहिए.

कौन है रघुराम राजन

रघुराम राजन का पूरा नाम रघुराम गोविंद राजन है इनका जन्म 3 फरवरी 1963 को हुआ था। उन्होंने भारतीय रिजर्व बैंक के 23वें गवर्नर भी बने थे। 4 सितंबर 2013 को डी सुब्बाराव कि सेवानिवृत्ति के बाद इन्होंने पदभार संभाला था इससे पहले यह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के प्रमुख आर्थिक सलाहकार और शिकागो यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर भी रहे हैं। 2003 से 2006 तक उन्होंने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रमुख अर्थशास्त्री व अनुसंधान निदेशक का पद संभाला था और भारत में वित्तीय सुधार के लिए योजना आयोग द्वारा नियुक्ति समिति का नेतृत्व भी किया था।

रघुराम राजन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान नई दिल्ली भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदा मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छात्र भी रह चुके हैं। एक छात्र के रूप में वह हर जगह गोल्ड मेडलिस्ट रहे हैं और बतौर आरबीआई गवर्नर उन्होंने भारत में सोने के आयात को नियंत्रित करने के अलावा नोटबंदी का दौर भी देखा था। उनके कार्यालय में नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स बैंक के अंदर कैपिटलाइजेशन और रुपया को बचाने जैसे फैसलों पर प्राथमिकता दी गई और इन्हीं के समय विदेशी मुद्रा कोष भी सौ अरब डॉलर ऊपर चला गया था।

गौरतलब यह है कि रघुराम राजन उन चुनिंदा लोगों में से एक थे जिन्होंने 2008 की आर्थिक मंदी की भविष्यवाणी की थी। अभी तक फाइनेंसियल टाइम्स में छपी खबर पर रघुराम राजन ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।