सरकारी बैंकों में 10000 करोड रुपए की पूंजी डालने वाली है सरकार ताकि बैंक घाटे से उभर सके

देश दुनिया

रांची सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की पूंजी की जरूरतों को पूरा करने के लिए और बैंक में बढ़ते हुए एनपीए को देखते हुए सरकार ने ₹10000 की पूंजी डालने का फैसला किया है। यह कुंजी पंजाब नेशनल बैंक कॉर्पोरेशन बैंक और सेंट्रलबैंकऑफ़इंडिया सहित कुछ अन्य बैंक में डाली जाएगी।

जानकारी के अनुसार इनमें कुछ बैंकों द्वारा अपने बौद्ध धारकों को ब्याज का भुगतान करने की वजह से यह बैंक विधि दबाव में आ गए हैं इसके परिणाम स्वरुप यह बैंक नियम की पूंजी जरूरतों में सफल रहने की जोखिम में आ गई है।

चालू वित्त वर्ष में यह पहला मौका है जब बैंकों को पूंजी दी जा रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार के वादे के मुताबिक से ₹53000 की पूंजी आने वाले कुछ महीनों में दे दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक नीरा मोदी घोटाले की शिकार PNB को सबसे ज्यादा 2800 करो रुपए की पूंजी उपलब्ध कराई जाएगी, जग्गी इलाहाबाद बैंक को 1700 करोड रुपए मिलेंगे। आंध्रा बैंक को 2000 करोड़ और वही इंडियन ओवरसीज बैंक को 2100 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।

बैंक पूंजी डालने का यह फैसला सरकार के इस निर्णय का हिस्सा है जिसके तहत बैंक में 2 वित्तीय वर्षों में कुल 2.11 लाख करोड रुपए डाले जाने थे। इसमें से 65000 करो रुपए की शेष राशि बची हुई है, पूंजी डालने के इस ताजा दौर में 8000 से 10000 करो रुपए की पूंजी डाली जा सकती है। सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में सरोजिनी क्षेत्र के बैंकों में 2.11 लाखों रुपए की पूंजी डालने की घोषणा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *