सोशल मीडिया पर वायरल होती हुई एक तस्वीर: जिसमें दो तरफा दावा किया जा रहा है। इस आतंकी को हथियार और पैसे किसने दिए? RSS या कांग्रेस?

देश दुनिया

कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक आतंकी की फोटो वायरल हो रही थी। जिसमें कैप्शन के साथ लिखा गया था “पकड़े गए जिंदा कश्मीरी आतंकी ने पूछताछ के दौरान कहा है कि आरएसएस में हथियार और पैसे मुहैया कराती है और हिंदुओं को मारने के लिए कहती है ताकि हिंदुओं के दिमाग में मुसलमानों के लिए नफरत भरी जा सके”।

इस संदेश के साथ एक तस्वीर” वी सपोर्ट प्रकाश राज” नाम के Facebook पेज पर 13 जुलाई 2018 को पोस्ट की गई थी। इस पोस्ट को अपलोड करने के बाद इसे अन्य कई सोशल मीडिया साइट पर भी शेयर किया गया था। जिसे अभी तो डिलीट कर दिया गया है। वैसे तो आपको यह बता दें कि इस पेज को 300000 से भी ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। इस फोटो में दो जवान और एक दाढ़ी वाला व्यक्ति मौजूद है। इस फोटो में नीचे यह लिखा गया है कि “RSS हमें पैसा और हथियार मुहैया करवाती है और हिंदुओं को मारने के लिए कहती है ताकि हिंदुओं के दिमाग में मुसलमानों के लिए नफरत भरी जा सके”।

क्या सच्चाई है इस फोटो के पीछे?

Trolltopnews की टीम द्वारा इसके पीछे छुपी सच्ची खबर ढूंढने की कोशिश की गई। और इस खबर के पीछे कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए।’ इससे पहले Facebook में मौजूद एक पेज बहुजन समाचार ने इसे क्या यह न्यूज़ सही है? वैसे अनेक भाजपा कार्यकर्ता आतंकी संगठनों को देश की खुफिया जानकारी देते हुए पकड़े गए हैं ‘शीर्ष के साथ अपने पेज पर पोस्ट किया था। अगर इस फोटो को आप ध्यान से देखें तो आपको इसमें BBC का लोगो भी गलत तरीके से लगा हुआ दिखाई देगा।

इसके उलटे एक और फोटो सोशल मीडिया पर सही की जा रही है। जिसे हमने ट्विटर के एक ट्वीट किए गए पोस्ट के स्नेप शार्ट में पाया।” इस फोटो में इसके उल्टे यह लिखा हुआ है की कांग्रेस हमें पैसा और हथियार मुहैया करवाती है और हिंदुओं को मारने के लिए कहती है ताकि भारत को मुस्लिम राष्ट्रीय बनाया जा सके” इस दावे के साथ यह तस्वीर Facebook ग्रुप के आई सपोर्ट राहुल गांधी जी कांग्रेस ग्रुप में शेयर किया गया था।

इस तरह के मैसेज अन्य सोशल मीडिया जैसे Twitter आदि पर भी शेयर किया जा रहा था।

ऐसे में trolltopnews ने इसके पीछे के सच को जानने की कोशिश की आखिर क्या था इस फोटो के पीछे का सच?

इस फोटो को गूगल पर सर्च करने से हमें इसके बारे में वैसे कोई खास जानकारी तो नहीं मिली क्योंकि इस फोटो के नीचे ही दो अलग-अलग दावे किए जा रहे थे। इस चलते इस फोटो को Google में रिवर्स सर्च करने पर हमें असली फोटो की कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई। लेकिन फोटो को जूम करके इसको एडवांस रूप से Google पर सर्च किया गया तो कई तथ्य अपने आप सामने आ गए।

वेबसाइट पत्रिका में एक रिपोर्ट के साथ एक तस्वीर मिली यह रिपोर्ट 25 सितंबर 2016 को लिखी गई थी। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि “जम्मू कश्मीर के अखनूर में भारत पाक सीमा पार करते हुए लश्कर ए तैयबा का आतंकी अब्दुल कयूम को बीएसएफ के जवानों ने पकड़ लिया। कयुम ने BSF को बताया है कि वह पाकिस्तान के सियालकोट का रहने वाला है “और उसकी ट्रेनिंग पाकिस्तान के शेखपुरा जिले के मुकरीदी मैं हुई है। पूछताछ में कयूम ने बताया कि वह लश्कर के लिए फंड जुटा रहा था।

इस समाचार को भारत की बड़ी-बड़ी अन्य मीडिया चैनलों और समाचार पत्रों में भी छापा गया था। जैसे कि NDTV न्यूज़ X इंडिया टुडे आदि। इन सारे समाचार और मीडिया न्यूज़ चैनल में कहीं भी या नहीं कहा गया था कि आतंकी को हथियार RSS या कांग्रेस मुहैया करवाती है। इससे तो यह बात साफ साफ सामने आती है कि सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही है खबर बिल्कुल गलत है। तो हमारी तो यह आपसे यही सलाह रहेगी कि सोशल मीडिया और अन्य तरीकों से पहुंचने वाले खबरों पर आप जरा खबरदार है क्योंकि आजकल सोशल मीडिया पर जोर शोरों से इस तरह की गलत खबरें फैलाई जा रही है।

1 thought on “सोशल मीडिया पर वायरल होती हुई एक तस्वीर: जिसमें दो तरफा दावा किया जा रहा है। इस आतंकी को हथियार और पैसे किसने दिए? RSS या कांग्रेस?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *