Fake News Alert: 2018-2017 के ऐसे न्यूज़ जिसे लोग सच मानते हैं

देश दुनिया

दुनिया भर में फेक न्यूज़ फैलाने के लिए सोशल मीडिया एक सबसे बढ़िया जगह है। हर दिन सोशल मीडिया में कोई ना कोई फेक न्यूज़ आती रहती है। लोग सोशल मीडिया से इस तरह जुड़ गए हैं कि सोशल मीडिया में आने वाली फेक न्यूज़ को भी वे सच मान लेते हैं

आज का यह हमारा लेख, इसी के ऊपर है। 2017 से लेकर 2018 तक सोशल मीडिया में कई तरह के फेक न्यूज़ ने लोगों को प्रभावित किया है। इसी को देखते हुए बड़े-बड़े सोशल मीडिया जैसे WhatsApp और Facebook ने इन सारे फेक न्यूज़ को रोकने के लिए कई बड़े कदम भी उठाए हैं। इस तरह के फेक न्यूज़ या तो संप्रदायिकता या इंटरनेट पर पैसे कमाने का जरिया होता है।

एक रिपोर्ट की मानें तो दुनियाभर में सोशल मीडिया के जरिए लाखों फेक न्यूज़ इंटरनेट पर वायरल होती है। ऐसे तो यह फेक न्यूज़ है, ज्यादातर लोगों को कोई परेशानी तो नहीं होती, लेकिन फेक न्यूज़ बनाने वालों को जरूर लाभ पहुंचता है। लोग इन फेक न्यूज़ को भी मान लेते हैं।

तो चलिए नजर डालते हैं कि 2017 से लेकर 2018 तक कौन-कौन से फेक न्यूज़ सोशल मीडिया पर वायरल हुए, हजारों नहीं बल्कि लाखों लोगों ने इसे अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर भी शेयर किया।

1. आकाश अंबानी के शादी के कार्ड जिसकी कीमत 1.5 लाख है जिसे सोने से बनाया गया है।

मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी है। फिलहाल तो सभी को पता है कि मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्तियों में गिने जाते हैं। ऐसे में यह भी इन फेक न्यूज़ से कैसे बच पाते। जी हां अगर आपने या कार्ड देखा होगा तो आपको याद होगा कि इस शादी के कार्ड मैं मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी की शादी के बाद कहीं गई थी। और एक कार्ड की कीमत लगभग 1.5 लाख रूपय बताई गई थी। और यह कहा गया था कि यह शादी का कार्ड सोने का बना हुआ है।

लेकिन वास्तव में सच यह था कि यह सरासर फेक न्यूज़ थी। जिसे सोशल मीडिया पर वायरल किया गया था। एक अधिकारी के तरफ से यह कहा गया कि यह वीडियो और यह कार्ड जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है वह सरासर फेक है।

अगर शादी के कार्ड और वीडियो को गौर से देखा जाए तो आपको नीचे की तरफ RSVP के द्वारा लेजर फुटवियर प्राइवेट लिमिटेड का साइन मिलेगा। साथ ही में इस कार्ड पर आपको मीना और नरेश बंसल का शादी का कार्ड दिखेगा। इस वीडियो को और फोटो को गौर से देखने पर आपको इसमें शादी का तारीख 2018 17 से पीछे ले जाकर 2013 दी गई है।

सोशल मीडिया पर वायरल होती हुई मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी की वेडिंग कार्ड फेक थी। लेकिन सोशल मीडिया पर यह वेडिंग कार्ड इतनी ज्यादा वायरल हुई, कि कई लोगों ने इसे सच मान लिया।

2. हॉलीवुड की मशहूर अदाकारा एंजलीना जोली 50 सर्जरी कराने के बाद जोंबी जैसे दिखने लगी

2018 में आई यह फेक न्यूज़ एंजेलिना जोली के फैंस को काफी निराश किया होगा। और कई लोगों ने यह फेक न्यूज़ को सच भी मान लिया होगा। लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं था।

आपको बता दें कि एक 19 वर्षीय लड़की सहर टाबर (Sahar Tabar) जोकि एंजेलिना जोली की साइन है उसने एंजलीना जोली जैसे दिखने के लिए अपने चेहरे पर 50 सर्जरी करवाई थी। लेकिन यह सर्जरी कामयाब नहीं हुई। जिसके चलते उनका चेहरा बिगड़ गया।

उनकी यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। और और लोगों ने सोशल मीडिया पर इसे शेयर करना शुरू कर दिया। कुछ लोगों ने इस खबर को भुने के लिए, जिसे हैशटैग के साथ सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया कि एंजेलिना जोली ने 50 सर्जरी कराई जिसके चलते उनका चेहरा जोंबी की तरह हो गया।

इस खबर के बाद जरूर एंजेलिना जोली के फैंस और प्रशंसकों को काफी दुख हुआ होगा। लेकिन यह बिल्कुल फेक न्यूज़ है। जिसे बहुत सारे लोग सच मानते हैं।

3. स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का सिर मुस्लिम समुदाय द्वारा तोड़ दिया गया

सोशल मीडिया पर खासकर WhatsApp और Facebook में यह खबर तेजी से वायरल हुई थी। और साथ में कैप्शन में लिखा गया था, स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का सिर मुस्लिम समुदाय द्वारा तोड़ा गया।

लेकिन आपको यह बता दें कि यह सरासर गलत खबर थी। यह 2018 में फैलाई गई फेक न्यूज़ जिसे सोशल मीडिया पर बहुत ही ज्यादा लाखों लोगों ने शेयर किया था।

लेकिन आपको बता दें कि एक वेबसाइट जिसका नाम अखंड भारत है जिसमें एक रिपोर्ट में कहा गया था कि एंटी सोशल एलिमेंट कुछ सामाजिक विद्रोही द्वारा स्वामी विवेकानंद के सिर को तोड़ा गया और बाद में उसे पुलिस द्वारा गिरफ्तार भी कर लिया गया।

लेकिन कुछ दिनों बाद स्वामी विवेकानंद से जुड़ी इस खबर को बढ़ा चढ़ाकर Twitter पर अपलोड किया गया। जिसमें कहा गया कि स्वामी विवेकानंद का शेर मुस्लिम समुदाय द्वारा तोड़ा गया था। यह खबर Twitter पर ट्विटर हैंडल @ShankhNaad द्वारा अपलोड किया गया था। इसे बाद में Twitter पर लाखों लोगों ने रीट्वीट भी किया था।

4. नरेंद्र मोदी के साथ वायरल होती हुई एक फोटो

“दोस्तों जरा ऊपर दिए गए फोटो को गौर से देखिए आपको शायद से यह फोटो दोबारा देखने को नहीं मिलेगा। यह दृश्य देखने के लिए आपकी आंखें तरस गई होगी

इस संदेश के साथ एक तस्वीर जय मोदी राज नामक Facebook पेज पर पोस्ट किया गया। आपको बता दें कि इस पेज पर 1200000 से भी ज्यादा फॉलो वर्ष है इस रिपोर्ट के लिखे जाने तक इस पोस्ट को लगभग 90000 से भी ज्यादा बार लाइक और 5000 से भी ज्यादा बार शेयर किया जा चुका था। इस तस्वीर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के प्रमुख नेताओं के साथ बीच में बैठे हुए दिख रहे थे।

आपको बता दें कि सोशल मीडिया पर फैलती हुई, यह खबर भी झूठी थी। बिजनेस इनसाइडर के लेखक के अनुसार अमेरिकी फोटो एजेंसी गेटी इमेज के लिए फोटोग्राफर , कायहान ओजर ने जो फोटो ली थी। इस तस्वीर में हैंबर्ग जर्मनी में 7 जुलाई 2017 को G20 के शिखर सम्मेलन में एक सत्र के दौरान तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यब एगद्रोवन (दाहिनी तरफ) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (बाई ओर) के साथ बातचीत करते हुए साथ में तुर्की के विदेश मामलों के मंत्री मेकुट (दाहिनी तरफ) है।

तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ करना गलत जानकारी फैलाने का सबसे आसान तरीका है। इस फोटो के साथ छेड़छाड़ कर इसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बैठा दिया गया। और कई लोगों ने इसे सच भी मान लिया।

5.दुर्गा वाहिनी के सदस्य ने पाकिस्तानी कुश्ती बाज को पीटा पुराने वीडियो द्वारा झूठा दावा

“मुंबई में एक पाकिस्तानी लेडीज फ्रीस्टाइल कुश्ती बाज महिला रिंग में खड़े होकर भारतीय महिला को गाली देते हुए रिंग में आने के लिए चैलेंज करने लगी इसके चैलेंज को स्वीकार करते हुए RSS की दुर्गा वाहिनी की महिला संध्या फाड़ के नाम की महिला विंग में उतर कर आई आगे क्या हुआ इस वीडियो में आप खुद देखें”

इस तरह के मैसेज के साथ में एक वीडियो सोशल मीडिया पर WhatsApp और Facebook पर वायरल हुआ था। इसके बाद भगवा रंग की सलवार कमीज पहने एक महिला की चुनौती स्वीकार करती है और उससे लड़ने के लिए रिंग में प्रवेश करती है। कुश्ती बाज पहली बार में ही महिला को एक कोने में फेंक देती है लेकिन फिर वह महिला उठती है और उस कुश्ती बाज को इस तरह पीती है कि कुछ पुरुषों द्वारा उसे छुड़ाया जाता है।

लेकिन Facebook और WhatsApp पर वायरल हो रही यह वीडियो सालासर गलत है। और इसके पीछे का सच कुछ और ही था। आपको बता दें कि यह वीडियो लगभग 1 साल पहले का है उस समय भी वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत बार देखा जा चुका है।

आपको बता दें कि वह भारत की पहली महिला पर सेवर रेसलर है, भगवा रंग की सलवार कमीज में दिखने महिला का नाम कविता देवी है। कविता देवी मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की फाइटर है और हरियाणा की पूर्व वेटलिफ्टर भी है। उन्होंने हाल ही में एक इतिहास बनाया जब WWE में शामिल होने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी।

लेकिन उनके इस वीडियो को गलत तरीके से Facebook में कैप्शन के साथ शेयर किया गया। और कई लोगों ने इस खबर को सच भी मान लिया था। आपको बता दें कि द न्यूज़ मीट की एक रिपोर्ट के अनुसार जालंधर में 2016 में कॉन्टिनेंटल रेसलिंग एंटरटेनमेंट द्वारा या आयोजित किया गया था। इस इवेंट में ही रेसलर कविता देवी का यह वीडियो देखा गया था। इसके अलावा आपको बता दें कि दुर्गा वाहिनी विश्व हिंदू परिषद के महिला शाखा है ना कि RSS की, लेकिन इस वीडियो के साथ इसे जोड़ दिया गया और यह दावा किया गया जो झूठा है।

6. जेम्स बांड की फिल्म में सोनिया गांधी हीरोइन

सोशल मीडिया WhatsApp एंड Facebook पर सोनिया गांधी की फोटो जेम्स बांड के फिल्म के हीरोइन बता कर बहुत वायरल हुआ था। जिसके नीचे लिखा हुआ था

“यह लोग कांग्रेसी चमचे इसको पहचानो तुम्हारी राजमाता एंटोनियो सोनिया गांधी है……..☺️☺️☺️

☺️……. अब क्या कहोगे चमचों अब भी झूठ लाओगे इसको क्या?”

सोशल मीडिया पर ऐसी कुछ तस्वीरें को पोस्ट किया गया जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बताकर शेयर किया जा रहा है, जिसमें कथित महिला समुद्र तट पर बिकनी पहने हुए दिख रही है।

इस फोटो को Facebook पर 200000 से भी ज्यादा लोगों ने शेयर किया था। इसे Facebook पर दक्षिणपंथी फेसबुक पेज फिर एक बार मोदी सरकार नाम के पेज पर शेयर किया गया था।

जो फोटो वास्तव में स्विस अभिनेत्री कुर्सेला एंडड्रेस की और बांड की पहली फिल्म Dr. NO के सेट की है। इस फोटो में एड्रेस के साथ जो व्यक्ति बैठे हैं वह इस स्विस अभिनेता शॉन कॉनरी है।

लेकिन इसे भी गलत तरीके से Facebook और Whatsapp में जैसे सोशल मीडिया पर पेश किया गया, जो झूठा साबित हुआ।

7. अशोक गहलोत ने कहा कि पानी से बिजली निकालने से पानी की ताकत खत्म हो जाएगी।

सोशल मीडिया Facebook WhatsApp पर एक वीडियो वायरल हो रहा था। जिसमें अशोक गहलोत कह रहे थे

जब पानी में से बिजली निकाली जाएगी और पानी खेतों में जाएगा आपके खेतों में जाएगा तो पानी में से बिजली निकल जाएगी तो ताकत ही नहीं निकल जाएगी फिर खेतों में पानी क्या काम का आएगा”

आपको बता दें कि अशोक गहलोत AICC के महासचिव और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सोशल मीडिया पर इस बयान के लिए जबरदस्त तरीके से ट्रोल किया जा रहा था। बताया जा रहा था कि उन्हें ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह टिप्पणी की थी। लगभग 16 सेकंड का यह क्लिप Twitter पर व्यापक रूप से फैला जिसमें कल होत को यह कहते हुए सुना जा सकता था जिन लोगों ने इसे शेयर किया है उनमें संबित पात्रा भी है जो भाजपा के प्रवक्ता है।

और कुछ ही घंटों में यह वीडियो इतना ज्यादा वायरल हुआ कि #ScientistGehlot ट्विटर पर सबसे ज्यादा ट्रेंड करने वाली बन गई। भाजपा और प्रधानमंत्री के समर्थक ट्वीट करके इसे टॉप लिस्ट में पहुंचा दिया था।

लेकिन आपको बता दें कि यह वीडियो गलत तरीके से संपादित किया गया था। इस वीडियो को गलत तरीके से एडिट करके Twitter पर अपलोड कर दिया गया था। गहलोत के बयान के बारे में इस वायरल दावे की जांच की गई तो पाया गया कि यह छोटा सा वीडियो क्लिप लंबे वीडियो का एक छोटा सा हिस्सा है। इस वीडियो का एक लंबा संस्करण है जो उनके संदर्भ को समझाता है।

गहलोत के अनुसार जब वह छोटे थे तब कैसे जन संघ के कार्यकर्ता भाखड़ा बांध के बारे में गलत जानकारी फैलाते रहे हैं पानी से बिजली निकाल देने से पानी बेकार हो जाएगा। इस बांध का उद्घाटन पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने किया था। मुझे याद है बचपन में जब जनसंघ हुआ करता था। यह लोग भाखड़ा डैम बनाने का विरोध करते थे। “यह जनसंघ वाले घूम-घूमकर प्रचार करते थे कि पंडित नेहरू का दिमाग खराब हुआ है यह बांध बना रहा है उसे बिजली घर बनाएगा और जब पानी में से बिजली निकल जाएगी पानी खेतों में जाएगा आपके खेतों में जाएगा तो पानी में बिजली निकल जाएगी तो ताकत ही खत्म हो जाएगी तो आपके खेतों में पानी काम क्या आएगा यह वह लोग हैं जनसंघ वाले तो यह जो इनकी संस्कृति संस्कार जो बने हैं मोदी जी के और उनके पार्टी के उस रूप में बने हुए हैं।”

सो यह सोशल मीडिया पर फैली यह खबर भी झूठी साबित हुई लेकिन फिर भी इस खबर को कई लोगों ने सच माना।

2 thoughts on “Fake News Alert: 2018-2017 के ऐसे न्यूज़ जिसे लोग सच मानते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *