Inspirational story: ₹500 की उधारी से शुरू किया बिजनेस और आज है 1000 करोड़ के मालिक (नितिन शाह)

कहानियां

अगर मन में लगन और चाहो तो क्या चीज हासिल नहीं हो सकती, ऐसे ही कहानी है नितिन शाह की ₹500 की उधारी से शुरू किया गया बिजनेस अब एक हजार करोड़ के मालिक हैं।

नितिन शाह का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता की एक छोटी सी अग्निशामक उपकरण विनिर्माण फॉर्म जेनिथ फायर सर्विस थी। बचपन से ही अपने अपने पिता को हाथ बटाने में दिलचस्पी रही थी। नितिन शाह ने 8 साल की उम्र से ही अपने पिता के छोटे से अग्निशामक फॉर्म में उनका हाथ बटाना शुरू कर दिया था। अपने कॉलेज और स्कूल की छुट्टियों के दौरान वह समय निकालकर उनके पिता के छोटे से फॉर्म में उनका हाथ बटाते थे। वह अपने परिवार में सबसे छोटे थे उनके सबसे बड़े भाई को उनके पिता का बिजनेस विरासत में मिला।

1980 में नितिन शाह ने छोटे छोटे काम करके और लोन लेकर किसी तरह 2000000 रुपए इकट्ठे किए। इन पैसों से उन्होंने जमीन खरीदी जिस पर नितिन फायर प्रोडक्शन इंडस्ट्री नामक कंपनी की स्थापना की थी।

बिजनेस के लिए सिर्फ पैसा ही सब कुछ नहीं होता है अगर आप प्रॉपर Idea के साथ किसी बिजनेस में उतरते हैं और उसमें अपनी मेहनत लगन और विजन के अनुसार काम करते हैं तो नाम मात्र की धनराशि में भी आप व्यापार शुरू कर सकते हैं। नितिन फायर प्रोटेक्शन इंडस्ट्रीज लिमिटेड के फाउंडर नितिन शाह ने भी कुछ इसी तरह शुरुआत की और बाद में बिजनेस वर्ल्ड में अपनी ख़ास पहचान बनाई। दरअसल, शाह के पिता की छोटी सी फायर फाइटिंग इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग फॉर्म जन्नत फायर सर्विस थी।

8 साल की उम्र से ही नितिन शाह अपनी पढ़ाई और कॉलेज से समय निकालकर पिता के साथ काम काज देखते थे, इसी बात का फायदा उठाकर उनके भाई ने इस कंपनी को हथिया लिया। तब शाह ने बिना अपने परिवार की मदद के खुद का वंश शुरू किया। लेकिन उस समय उनके पास बिजनेस शुरू करने के लिए ₹20 तक नहीं थे। उन्होंने अपने दोस्त से ₹500 का लोन लिया एक दोस्त के ऑटो गैरेज में काम करना शुरू किया। साथ ही उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में अपना डिप्लोमा भी पूरा कर लिया था।

जब वह अपने पिता के साथ काम करते थे तब उन्होंने कुछ कॉन्टेक्ट बनाए थे जिनमें से एक डिपार्टमेंट ऑफ एटॉमिक एनर्जी के सीनियर एडवाइजर ने उन्हें डिपार्टमेंट में अग्निशामक की मेंटेनेंस का काम दिया था। हालांकि शुरुआत में उनके पास काफी कम इक्विपमेंट्स थे। सो लिहाजा जो इक्विपमेंट्स थे उनकी मदद से ही उन्होंने काम की शुरुआत की। छह-सात महीनों में ही उन्होंने इतना पैसा इकट्ठा कर लिया था कि घाटकोपर मैं उन्होंने 1200 वर्ग मीटर की जगह खरीद ली। यहां उन्होंने नितिन फायर प्रोटेक्शन इंडस्ट्री की शुरुआत की। सन 1987 में उन्होंने गुजरात की उमर गांव में फायर फाइटिंग इक्विपमेंट की, मैन्युफैक्चरिंग कंपनी शुरू की इसके बाद शाह ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

सन 1986 के अंत तक आते-आते इस कंपनी ने फायर इक्विपमेंट के बिजनेस में अद्भुत सफलता हासिल की और इस कंपनी का टर्नओवर 7 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया था। अगले साल 1987 मैं नितिन शाह की इस कंपनी ने 10000000 रुपए में 25 कर्मचारियों के साथ फायर ब्रिगेड यंत्र बनाने की शुरुआत की थी और व्यापार बढ़ाते गए इसके बाद नितिन सा ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। नितिन शाह ने अपने बिजनेस को आगे बढ़ाते हुए 1980 में नितिन ने गोवा में ऑफिस खोला और इक्यूपमेंट की डिजाइनिंग मैन्यूफैक्चरिंग और मेंटेनेंस जैसी सुविधाएं देना शुरू किया जिसमें काफी लाभ नितिन को मिला। नितिन ने हाल ही में एक यूरोपियन वेंचर की स्थापना भी की।

बता दें कि नितिन की कंपनी दुनिया के अब एकमात्र ऐसी कंपनी बन गई है जो कि केमिकल गैस और पानी सहित सभी तरह के फायर सेफ्टी प्रोडक्ट्स बना रही है। इसी के साथ यह ऐतिहासिक कंपनी में दर्ज हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *